भदोही जिले में मां कात्यायनी के दर्शन कर भक्त हुये निहाल

रिपोर्ट-राम मोहन अग्निहोत्री

ज्ञानपुर,भदोही।शारदीय नवरात्रि के छठवें दिन सोमवार को देवी मंदिरों में आदि शक्ति मां दुर्गा के छठे स्वरूप सुख-समृद्धि की प्रतीक मां कात्यायनी देवी का विधि विधान से पूजन अर्चन किया गया। देवी मंदिरों में उमड़े श्रद्धालुओं ने मां के दर्शन कर अपने आप को निहाल किया ।साथ ही सुख समृद्धि व सुखी दांपत्य जीवन की कामना की।  विधि विधान के चले पूजन अर्चन के दौरान अर्गला स्त्रोत व देवी तंत्रोक्ति से पूरा वातावरण गुंजायमान रहा। शारदीय नवरात्र में नगरी क्षेत्र सेे लेकर ग्रामीण अंचल तक मां दुर्गा के रंग में रंग चुका है । चहुंओर माता रानी के दर्शन पूजन की धूम मची है । सोमवार को देवी मंदिरों में सुबह से ही मां के छठे स्वरूप मां कात्यायनी के दर्शन के लिए कतार लग गई। विशेषकर महिला व युवतियों की अधिकता दिख रही है । भक्तजन दर्शनपूजनकेसाथरामचरितमानस पाठ आज भी करते देखे जा रहे हैं। उधर दुर्गा पंडालों में भी श्रद्धालुओं की भीड़ रही है शाम ढलते ही पंडालों में लोगों के पहुंचने का सिलसिला देर रात तक जारी रहता है । देवी भक्ति गीतों से पूरा क्षेत्र भक्तिमयं हो गया है । नगर के हरिहर नाथ मंदिर ,घोपईला माता मंदिर आदि स्थानों पर दर्शन पूजन करने का सिलसिला भोर  से ही शुरू हो जा रहा है ।तो देर रात तक चल रहा है ।महिलाएं गीतों के जरिए देवी स्तुति कर रही हैं ।पुराणों के अनुसार आदि शक्ति के रूप कात्यायनी की विधि विधान से पूजन करने से भौतिक सुख की प्राप्ति होती है। जीवन सुखी रहता है ।कात्यायनी ऋषि घोर तपस्या कर आदि शक्ति को प्रसन्न करते हुए उन्हें अपनी पुत्री के रुप मे मांगते हैं।जबकि देवी को अजन्मा माना जाता है।ऋषि की तपस्या से प्रसन्न माता उनके कुल मे जन्म लेती हैं।इसी से इनका नाम कात्यायनी देवी पड़ा।जो सच्चे हृदय से माता की पूजा व जागरण करता है माता की कृपा दृष्टि उसपर बनी रहती है।इसी क्रम में इसके पूर्व शारदीय नवरात्र के पांचवे दिन रविवार को मां भगवती के स्कंदमाता स्वरूप की उपासना की गई । देवी मंदिरों पर दर्शन पूजन और आरती के बीच दिनभर देवी के जयकारे गूंजते रहे। पंडालों में सुबह से लेकर देर रात तक श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रही । इस दौरान देवी गीत और वैदिक मंत्रोच्चार से वातावरण देवीमय होता रहा।

या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः

 देवी के स्कंदमाता स्वरूप की आराधना का यह मंत्र जिले के देवी मंदिरों पर पूरे दिन गूंजता रहा । सुबह से ही मंदिरों में दर्शन-पूजन करने वालों का आगमन शुरू हो गया। घंटा घड़ियालों की ध्वनि से मंदिर परिसर गूंजता रहा।घोपईला देवी मंदिर के अलावा सिद्ध पीठ हरिहरनाथ मंदिर भी श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी।देवी के जयकारे और भक्ति गीत गूंजते रहे। पूजा पंडालों में भी भारी भीड़ उमड़ी रही।गोपीगंज में श्रद्धालुओं ने माता रानी का विधि विधान से दर्शन कर पुण्य लाभ लिया । नगर के सदर मोहाल स्थित मां दुर्गा माता मंदिर,चौरामाता मंदिर, मुंबादेवी,शीतला माता देवी सहित कई देवी मंदिरों में सुबह से लेकर देर शाम तक दर्शन-पूजन और भजन-कीर्तन का कार्यक्रम चलता रहा। इसी तरह ग्रामीण अंचलों में भी स्थापित पूजा -पंडालों में भी पूजन-अर्चन का कार्यक्रम चलता रहा।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट