जांच में दोषी पाया गया घोरहा का कोटेदार,कोटा निरस्त

ज्ञानपुर । ज्ञानपुर विकास खण्ड के घोरहॉ गांव के कोटेदार की दबंगई व अनियमिता की शिकायत  जिलाधिकारी भदोही को पत्रक देकर जांच कर कार्यवाही की माँग की थी,जिसकी जाँच पुर्व पूर्ति निरीक्षक ज्ञानपुर विजय यादव ने किया था,जाँच प्रकिया पुर्ण हो जाने पर घोरहा का कोटा निलंबित कर दिया गया था ।

  निलम्बन के बाद छः अगस्त को घोरहा गांव के ग्रामीणों ने दुकान को निरस्त कराने की मांग को लेकर जिलाधिकारी कार्यालय पर तीन सौ से अधिक की संख्या में शपथपत्र देकर प्रदर्शन किया था,जिलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद के निर्देश पर दस अगस्त को घोरहा गांव के कोटेदार की जांच अपर उप जिलाधिकारी ने जे पी यादव ने की,ए डीएम के सामने भारी संख्या में जुटे ग्रामीणों ने लिखित  बयान दिया था की कोटेदार यूनिट के हिसाब से राशन का वितरण नही करता,कार्ड चाहे चार यूनिट का हो या पांच यूनिट का सभी कार्डधारकों को मात्र दस किलोग्राम राशन छः किलो गेहू व चार किग्रा चावल देता हैं पूछने पर कोटेदार स्पस्ट इंकार करते हुए कहता हैं कि चाहे जहां जाकर शिकायत करो हमारा कुछ नही उखाड़ पाओगे,बिना ग्रामवासियों को सूचना दिए महीने मे सिर्फ एक दिन राशन वितरित करता है, दियासलाई, नमक व साबुन कोटेदार द्वारा जबरदस्ती दिया जाता हैं ,दस किलोग्राम राशन तौलते समय राशन की तरफ एक किलोग्राम का बोरा रख देता हैं, अपर उपजिलाधिकारी द्वारा जांच प्रक्रिया पुर्ण किये जाने व कोटेदार से स्पस्टीकरण लेने के बाद जिलाधिकारी भदोही को रिपोर्ट सौंपी ,जिलाधिकारी के निर्देश पर जांच में दोषी पाए जाने व स्पस्टीकरण बलहीन होने पर उपजिलाधिकारी ज्ञानपुर द्वारा घोरहा गांव के कोटे की दुकान की जमा प्रतिभूति शासन के पक्ष में जब्त कर दुकान का अनुबंध पत्र निरस्त  कर दिया गया ।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट