पटाखों के अवैध गोरखधंधे में शामिल कारोबारियों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं

रिपोर्ट-राम मोहन अग्निहोत्री

ज्ञानपुर,भदोही। दिवाली के मौके पर पटाखा से होने वाली दुर्घटनाओं को लेकर प्रशासन ने जिले के सभी लाइसेंसधारी दुकानदारों को सचेतकर सुरक्षा के समुचित उपाय करने के निर्देश देने बाद भी इस दिशा में सावधानी नहीं बरती जा रही है। पटाखा के गोदाम और फुटकर विक्रेता भी जरूरी सावधानी को अनदेखा कर रहे है। जिले में ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में कई लाइसेंसधारियों ने 50 किलोग्राम की क्षमता की आड़ में पटाखों का भारी भरकम स्टाक को जमा कर लिया है, लेकिन सुरक्षा के सभी निर्देशों का पालन नहीं कर रहे। आवासीय मकानों तथा अन्य ज्वलनशील पदार्थ के आस पास पटाखा व्यवसाय होने से यहां हर समय दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। वैसे तो जनपद में पटाखों की कोई फैक्ट्री नहीं है। स्वाभाविक रूप से इसे बाहर से लाया जाता है। और भंडारण किया जाता है । इस कारोबार में गैर लाइसेंसी दुकानदारों की संलिप्तता कहीं ज्यादा है। लिहाजा अवैध कारोबारी मनमाने ढंग से कारोबार चलाते और खतरनाक उत्पाद को सुरक्षित ढंग से रखते हैं ।इसका भीषण दुष्परिणाम जनपद में कई बाजारों में देखा जा चुका है ।बीते  वर्षों भदोही के दरोपुर मुहल्ले में गुड्डू नामक कारोबारी के विस्फोट से चिथड़े उड़ गए थे ,वहीं ज्ञानपुर पुरानी बाजार में समूचा मकान ब्लास्ट कर गया था। उसके बाद भी प्रशासन नहीं चेत रहा है ।अफसोस है कि उच्चाधिकारियों के आदेश का कोई भी पालन नहीं किया जाता है । आलम यह है कि चोरी छुपे इसके बिक्री व बनाने का काम घनी आबादी ओं में आज भी हो रहा है ।बताते चलें कि यह सारा खेल पुलिस की आंखों के सामने ही हो रहा है। अवैध दुकानों व गोरख धंधे में शामिल लोगों के विरुद्ध पुलिस की कोई भूमिका नजर नहीं आ रही है ।इनके खिलाफ न तो कोई अभियान ही चलाया जा रहा है ना तो कोई बड़ी कार्रवाई ही हो रही है। जबकि पुलिस का कहना है कि दो-चार दिन बाद अभियान चलाया जाएगा, जिन लोगों के द्वारा पटाखों का कारोबार किया जाता रहा है ।उन्हें चिन्हित करके उनके भवनों की जांच की जाएगी ।और किसी स्थान पर अवैध पटाखे पाए जाते हैं, तो संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट