गोपीगंज में अकीदत से निकला चेहल्लुम का जुलूस

रिपोर्ट-राम मोहन अग्निहोत्री

गोपीगंज,भदोही।मुस्लिम समुदाय के पैगंबर हजरत मोहम्मद साहब के नवासे तथा चौथे खलीफा हज़रत अली के चौथे पुत्र हजरत इमाम हुसैन ने अधर्म के नाश तथा धर्म व्यक्त करने के लिए इराक के कर्बला शहर मात्र में 72 साथियों को साथ लेकर यजीद की हजारों की फौजों को हिला दिया था और ईश्वर के आदेश का पालन करते हुए परिवार के सदस्यों एवं साथियों संग शहीद हो गएथे। उन्हीं की याद में चालीसवें  चेहल्लुम पर गोपीगंज नगर के निवासी सैयद अहमद हसन के निवासी जीटी रोड के आवास से होते हुए इमाम हुसैन के चेहल्लुम का जुलूस इमामबाड़ा मरियम बीवी से निकला और कर्बला गेराई के पास जाकर समाप्त हुआ। जिसका नेतृत्व इलाहाबाद के सैयद यूनुस कर रहे थे। इस मौके पर शोकाकुल माहौल में लोग नोहा खानी और जंजीरों से सीना जख्मी करते हुए चल रहे थे ।इस मौके पर मातम करने वालों ने अपने जिस्म को खून से लहूलुहान कर लिया था।जुलूस के साथ एक ताबूत का जुलूस अलम के साथ चलता रहा। जो आम जनता के कौतूहल का केंद्र बना रहा। जुलूस में सैकड़ों महिलाएं और पुरुष तथा बच्चों ने हिस्सा लिया ।जुलूस में शामिल होने वाले सैयद अहमद हसन ,सैयद शाबिर हसन,सैयद मोहम्मद जमील, मोहम्मद अब्बास, शादाब जाफरी आदि ने कर्बला के शहीदों पर रोशनी डाली।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट