भदोही जिला प्रशासन के लिखित आश्वासन पर परिजनों ने निकाली अंतिम शव यात्रा

रिपोर्ट-राम मोहन अग्निहोत्री

ज्ञानपुर,भदोही ।। छत्तीसगढ़ के दन्तेवाड़ा जिले के किरन्दुल – चोलनार मार्ग पर गुरुवार को भदोही जिले के गोपीगंज कोतवाली क्षेत्र के मदनपुर गांव निवासी जवान वकील बिन्द की नक्सली गतिविधि इलाके में मौत के बाद शहीद का दर्जा दिए जाने की मांग पर अड़े परिजन और ग्रामीण अंतत: प्रशासनिक स्तर पर लिखित आश्वासन मिलने के बाद मान गए हैं। इस बीच जवान को गार्ड आफ आनर दिया गया। इसके बाद अंतिम यात्रा निकली। जवान की पत्नी सीमा, एसडीएम और सीओ समेत पूर्व मंत्री राम किशोर, पूर्व विधायक जाहिद बेग, जिला कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष डा.नीलम मिश्रा समेत तमाम सियासी और गैर सियासी हस्तियों ने जवान को श्रद्धासुमन अर्पित की।ज्ञातव्य हो कि,वकील बिन्द के शहीद होने और उसे शहीद का दर्जा नहीं दिए जाने पर परिजनों ने शव लेने से इनकार कर दिया था। रात में पहुंचा शव एम्बुलेंस में ही पड़ा रहा। इस दौरान विधायक विजय मिश्रा ,युवा जिला पंचायत सदस्य भूपेन्द्र यादव , पिछड़ा वर्ग आयोग के पूर्व सदस्य कुवर प्रमोद चन्द मौर्य,तथा बसपा विधायक हाकिमलाल बिन्द और पूर्व विधायक रमेश बिन्द पहुंचे थे। वहीं, सांसद वीरेन्द्र सिंह ने भी संवेदना जताते हुए शहीद का दर्जा दिलाने के लिए पत्र लिखने का भरोसा दिया था। बावजूद इसके ग्रामीण और परिजन मांग पर अड़े रहे। रविवार को दोपहर बाद एसडीएम और सीओ पहुंचे। प्रशासनिक अफसरों के भरोसे पर ग्रामीण माने। इसके बाद गार्ड आफ आनर के साथ जवान को अंतिम सलामी दी गयी। इस दौरान जवान की पत्नी सीमा बिन्द, एसडीएम अमृता, सीओ यादवेन्द्र, कांग्रेस जिलाध्यक्ष डा. नीलम मिश्रा, पूर्व विधायक जाहिद बेग और पूर्व मंत्री राम किशोर बिन्द समेत तमाम हस्तियों ने श्रद्धां सुमन अर्पित किया। इस दौरान जवान की अंतिम यात्रा में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए। इस दौरान औराई कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक सुनील दत्त दुबे और गोपीगंज कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक इंस्पेक्टर शेषधर पांडेय फोर्स के साथ मुस्तैद रहे।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट