पहले पत्नी फिर पति ने फाँसी लगाकर जीवन लीला समाप्त की

गोपीगंज ।। भदोही जिला अंतर्गत औराई ब्लॉक के जाने माने चर्चित समाजसेवी दिनेश चंद्र चौबे उर्फ़ गन्नर चौबे के सुपुत्र आशिष चौबे की धर्म पत्नी ने 3 अप्रैल को मकान के अंदर दरवाजा को बंद करके फाँसी लगाकर आत्म हत्या कर जीवन लीला समाप्त कर ली मोके पर परिवार वालो को जब यह बात मालूम हुवा तो तत्काल पुलिस प्रशासन को सुचना दी तुरंत आनन फानन में पुलिस आया और दरवाजा को तोड़कर बाड़ी को अपने कब्जे  में लेकर पोस्ट मार्टम के लिए भेज दिया चौबीस घंटे बीते नही की दिनेश चंद्र उर्फ़ गन्नर चौबे का सुपुत्र अपने पत्नी के बियोग में  सुबह दिनाँक 4 अप्रैल अपने गांव से कपसेठी किसी रिश्तेदार के वहा गया हुवा था वही कपसेठी किसी पेड़ में फाँसी लगाकर आत्म हत्या कर ली आज एक घर के अंदर दो दो जाने चली  गई पुरे गांव वाशियो में मातम छाया हुवा है आशिष चौबे का कुछ शाल पहले शादी हुई थी दोनों पति पत्नी अत्यन्त खुश थे ना जाने किसकी बुरी नजर लगी की  एकही चंद में परिवार चकना चूर होकर  बर्वाद हो गया हँसता खस्ता परिवार बिखर गया आशिष चौबे को एक डेढ़ शाल का लड़का भी है चकापुर,महाराजगंज ,औराई ब्लॉक में मातम छाया है आज उस पिता के ऊपर क्या गुजर रही होगी पिता गन्नर चौबे माँ छोटा भाई बहन का रो रोकर बुरा हाल होगा दिनेश चंद्र चौबे बहुत ही कोमल शांति विचार के थे वे अपने ग्राम वाशियो में ब्राम्हण हो या प्रजा किसी भी परिवार को सुख दुख में मदत कर सहानि भूति रखते  थे साश ससुर लड़के  बहु को बहुत ही स्नेह लाड़ प्यार करते थे देखा जाय तो हर मामले में सम्पन्न थे रुपया पैसा खेती बारी में मजबूत थे आखिर ऐसा कौन सा पनोती आ गई सब हर भरा खेती उजड़ गयी आशिष चौबे  व पत्नी की सव को पुलिस प्रशासन ने पोस्ट मार्टम हेतु भेज दिया

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट