बंगाल की हड़ताल के समर्थन में कल्याण डोंबिवली के डॉक्टर

      

 

          

 कल्याण : इंडियन मेडिकल एशोसिएशन के आह्वाहन पर कल्याण डोम्बिवली के डॉक्टरों द्वारा भी समर्थन किया गया। गौरतलब हो कि कलकत्ता में जूनियर डॉक्टर डॉक्टर परिभा मुखर्जी पर मरीजों के परिजनों द्वारा हमला कर दिया गया जिस पर वहाँ की मुख्यमंत्री द्वारा कोई ठोस कार्यवाही न करने के कारण वहाँ डॉक्टर हड़ताल पर चले गए।


पिछले आठ दिनों से कोई निष्कर्ष न निकलने पर पूरे देश के डॉक्टर हड़ताल पर चले गए इसी क्रम में कल्याण डोम्बिवली के डॉक्टरों ने भी डोम्बिवली के जिमखाने में पत्रकार परिषद की। इस अवसर पर बोलते हुए डॉक्टर पाटे ने कहा कि आइएमए डोम्बिवली में कुल 390 सदस्य हैं और सभी मिलकर बंगाल में डॉक्टर पर हुए हमले का विरोध करते हैं।शहर के 150 दवाखाने तथा 150 अस्पताल विरोध में बंद रहे लेकिन मानवता को ध्यान में रखते हुए गंभीर रोगियों की सेवाएं चालू रही।


उन्होंने आगे कहा कि हमारी मांग है कि डॉक्टरों पर होने वाले हमलों पर सरकारें गंभीर हों और सुरक्षा के मानक तय करें। अगर सरकार सुरक्षा के नियम नही बनाती तो भविष्य में और भी उग्र आंदोलन किया जाएगा। इस अवसर पर संस्थान के अध्यक्ष डॉ मीना पृथी, सचिव, डॉ विजयलक्ष्मी शिंदे, डॉ अर्चना पाटे, कोषाध्यक्ष डाॅ भक्ति लोटे, डॉ वंदना धनकोड, डाॅ सुनीता उपासनी, डॉ हेमंत पाटिल आदि उपस्थित थे।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट