थानों में धूल फांक रही है विवेचनाएं, निरंकुश विवेचक कर रहे मनमानी

रिपोर्ट-राम मोहन अग्निहोत्री 

ज्ञानपुर, भदोही ।। नगर से लेकर देहात तक के इलाकों में विवेचक मनमानी पर उतारू हैं। उन्हें गुण दोष का कोई ख्याल नहीं है। विवेचकों की लापरवाही से जहां विवेचना लंबित पड़ी हुई हैं। वहीं दूसरी ओर विवेचक मनमानी ढंग से प्राथमिकी जांच पड़ताल कर सीडीआर को आधार मानकर योजनाओं को पूर्ण कराने पर लगे हुए हैं, यहां तक कि पीड़ित का बयान लेना भी उचित नहीं समझते। नगर के ज्ञानपुर, गोपीगंज,औराई, कोईरौना, ऊंज,भदोही आदि क्षेत्रों की हालत बद से बदतर है।वहीं दूसरी ओर चौरी, सुरियावा, दुर्गागंज, मोढ़, खमरिया बाबूसराय, महाराजगंज, नई बाजार पुलिस भी इससे अछूता नहीं है।आपको बता दें कि नगर से लेकर देहात तक की पुलिस/जांच अधिकारी विवेचक मामले का गुण दोष के आधार पर जांच न करके वे या तो राजनीतिक दबाव में काम करते हैं या तो पैसे के पीछे भागते हैं। जिससे पीड़ितों को न्याय नहीं मिल पाता। विभागीय अधिकारी अपने मातहतों की ही बात मानते हैं। उन्हें सच्चाई से कोई लेना देना नहीं है। जिस तरह से विवेचक मनमानी कर रहे हैं ,अब न्याय मिल पाना संभव नहीं लग रहा है। पुलिस दर्ज मुकदमों में पीड़ित का बयान भी दर्ज करना उचित नहीं समझती। विवेचक पीड़ितों को बयान अपने मन से भी दर्ज करने में गुरेज नहीं करते। निर्दोषों पर सितम अपराधियों पर रहम कर रही है कोतवाली ज्ञानपुर की पुलिस। अपराधियों के हौसले बुलंद हैं,वहीं दूसरी ओर निर्दोषों का उत्पीड़न करने से बाज नहीं आ रहे हैं। कुछ ऐसा ही मामला कोतवाली ज्ञानपुर क्षेत्र के  भगवास गांव का है , जहां बीते माह 29 मई 2019 को ग्राम भगवास निवासी दयाराम यादव नामक विकलांग युवक की ब्याहता बेटी बिंदू देवी जो मेरी भूमिधरी जमीन पर उपली पाथ रही थी, को विपक्षीगण़ शिव शंकर व चंद्रशेखर उर्फ लल्लू व रमाशंकर पुत्र रामदास तथा शिव शंकर आदि ने लाठी-डंडे व सरिया से लैस होकर गाली गलौज देते हुए मारना पीटना शुरू कर दिए। बचाव के लिए जब मेरा पुत्र दौड़ा तो उसे भी मारपीट कर घायल कर दिया गया। प्राथमिकी दर्ज होने के बाद भी पुलिस द्वारा मामले में कोई ठोस कदम न उठाते हुए उल्टे पीड़िता को ही कोतवाली ने फटकार लगाना शुरू कर दिया।  आरोप है कि पुलिस मिलीभगत कर एक पक्षीय कार्रवाई कर रही है।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट