नाना पाटेकर के मुर्दा रसोइयां का 16 साल लंबा संघर्ष रंग लाया, दस्तावेजो मे जिन्दगी के साथ मिली जमीन

वाराणसी ।। सरकारी दस्तावेजो मे मुर्दा घोषित कर दिए गए नाना पाटेकर के रसोइया को बुधवार को दस्तावेजो मे जिन्दगी के साथ जमीन भी मिल गई खुद को जिंदा साबित करने के लिए वह 16 साल से संघर्ष कर रहे है अपने गले मे  " मै जिन्दा हू "कि तख्ती टांगकर वाराणसी से दिल्ली तक घूमते रहे कभी गुरूद्वारो मे खाना खाकर सड़क किनारे कफन ओढ़कर सो जाते कभी जंतर-मंतर पर धरना देते इस दौरान दिल्ली मे पुलिस की लाठी भी खाई और तिहाड़ जेल मे भी रहे मुख्यमंत्री योगी की कार के आगे भी कूदे और जिलाधिकारीयो से आत्मदाह करने की इजाजत भी मागी हम बात कर रहे है चौबे पुर थाना क्षेत्र के छितौनी निवासी संतोष मूरत सिंह की कागजों मे मुर्दा घोषित संतोष पिछले दो दशक से जो जिंदगी जी रहे है वह किसी फिल्म कहानी से जुदा नही है संतोष की माता पिता की मौत उनके बचपन मे हो गई थी कई एकड़ मे फैली अपनी जमीन पर वह खेती किसानी करते रहे साल 2000 मे संतोष के गांव मे नाना पाटेकर की फिल्म ऑच की शूटिंग हुई शूटिंग के दौरान संतोष से नाना पाटेकर इतने प्रभावित हुए कि उसे अपने साथ लेकर मुबंई चले गये नाना के घर संतोष रसोइया का काम करने लगे मुबंई मे ही एक दलित युवती से शादी भी कर ली 2003 मे गांव आए तो दलित युवती से शादी करने के कारण पट्टीदारो का तीखा विरोध झेलना पड़ा विरोध को देखते हुए संतोष वापस मुबंई चले गए इसी दौरान पट्टीदारो ने मुबंई ट्रेन विस्फोट की अफवाह फैलाकर उनकी जमीन अपने नाम करा ली गांव मे उनकी तेरहवीं भी कर दी तेरहवी के बारे मे किसी दोस्त ने उन्हे सूचना दी तो गांव पहुचे पता चला कि उन्हे दस्तावेजो मे मृत घोषित कर पूरी जमीन पट्टीदारो ने अपने नाम करा ली है अधिकारीयो से लेकर मंत्रीयो तक गुहार लगाई लेकिन कोई फायदा नही हुआ अंतत संतोष ने लोकतांत्रिक विरोध का तरीका अपनाया अपने गले मे "मै जिन्दा हू "कि तख्ती टांगकर वाराणसी से दिल्ली तक धरना-प्रदर्शन करते रहे दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना देते समय एक बार पुलिस की लाठिया भी खाई कुछ दिनो तक तिहाड़ जेल मे भी रहे वाराणसी मे जब भी कोई नया जिलाधिकारी आता अपनी गुहार लेकर पहुंच जाते पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से लेकर मुख्यमंत्री योगीआदित नाथ से भी गुहार लगाई हर जगह से आश्वासन मिलता रहा संतोष बुधवार को जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह से रायफल क्लब मे मिले जिलाधिकारी ने संजीदगी से संतोष की पूरी बात सूनी नगर मजिस्ट्रेट उप जिलाधिकारी सदर कानून गो  थाना प्रभारी चौबे पुर ने लेखपाल को लेकर मौके पर पहुंचे डीएम ने गांव मे अपने सामने जमीन की नापी कराई कब्जा वाली जगह को खाली कराया जिलाधिकारी ने राजस्व लेखपाल कानून गो और उप जिलाधिकारी को निर्देशित किया कि खतौनी के अधार पर संतोष का जितना हिस्सा बनता है उतनी नापी करते हुए निशान लाए खुद खड़ा होकर डीएम ने जमीन की नापी कराई कहा कि भविष्य मे यदि किसी के द्वारा जमीन पर अवैध तरीके से कब्जा करने की सूचना मिलती है तो उसके खिलाफ भू माफियां अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी थाना अध्यक्ष चौबे पुर को निर्देशित किया कि जिन लोगो ने भी गलत तरीके से जमीन पर कब्जा कर रखा है या दुसरे के जमीन पर कब्जा किया है उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करते हुए मुकदमा दर्ज करे ।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट