उज्ज्वला एलपीजी कनेक्शन गरीब परिवारो की महिलाओं के लिए साबित हो रही वरदान

भदोही ।। मानव जीवन में अग्नि का बड़ा महत्व है। अग्नि की खोज से मनुष्य अपने भोज्य पदार्थ को स्वादिष्ट बनाने लगा। भोज्य पदार्थों के बनाने में ईंधन में लकड़ी का प्रयोग समय के साथ चलता रहा। लकड़ी इत्यादि का ईंधन में प्रयोग करने से उससे निकलने वाला धुंआ काफी नुकसानदायक है। गांव, गरीबों के यहां परिवार के बच्चे, महिलायें ईंधन एकत्र करने में लगे रहते थे। खेत-खलिहानों, मजदूरी करने वाले गरीबों ने कभी सोचा नहीं होगा कि वे भी लकड़ी इकट्ठा करने व धंुए से छुटकारा पायेंगे, किन्तु देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने उत्तर प्रदेश के बलिया जिले से प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना का प्रारम्भ किया। प्रारम्भ में इस योजना के तहत देश केे 05 करोड़ लोग जो गरीबी रेखा के नीचे आते हैं उन परिवारों को मुफ्त में एल0पी0जी0 का कनेक्शन दिये जाने का लक्ष्य भारत सरकार ने लिया था, किन्तु बाद में योजना के लक्ष्य को बढ़ाकर 08 करोड़ गरीब परिवारों को उज्ज्वला योजना के तहत लाभान्वित करने को निर्णय भारत सरकार द्वारा लिया गया। प्रधानमंत्री जी की यह योजना बहुत ही उपयोगी योजना है, जो गरीबों की हितकारी बनी है। इस योजना में नया एल0पी0जी0 कनेक्शन उपलब्ध कराने के लिए 1600 रूपये की नकद सहायता देना शामिल है और यह सहायता राशि केन्द्र सरकार द्वारा उपलब्ध करायी जाती है।उज्जवला योजना उ0प्र0 के गरीब परिवारों के लिए वरदान साबित हुई है जो उनके जीवन में उजाला ला रही है। प्रदेश में अब तक लगभग 1.31 करोड़  गरीब परिवारों को एल0पी0जी0 का गैस कनेक्शन दिलाते हुए उनके दैनिक जीवन में खुशियां लाई हैं। यह योजना लगातार चल रही है। गैस घर-घर में आ जाने से महिलाओं को बड़ा लाभ हुआ है। अब वे स्वस्थ जीवन के साथ-साथ कम समय में खाना बनाकर बच्चों को स्कूल भेजने, घर, खेती बाड़ी मजदूरी आदि में आवश्यकतानुसार पुरूषों का सहयोग भी करते हैं।इस योजना का मुख्य उद्देश्य पूरे भारत में स्वच्छ अभियान का प्रयोग करना है, जो कि एल0पी0जी0 द्वारा पूरा किया जा रहा है। हमारे भारत मंे अधिकतर ग्रामीण अभी भी अशुद्ध जीवाश्म ईंधन का प्रयोग करते हैं, जिससे हमारे चारों तरफ के वातावरण में हवा प्रदूषित होती है और साथ ही उन महिलाओं के लिए भी है जो इसका प्रयोग कर बीमार होती हैं। इस योजना से महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा मिल रहा है, जिससे वह स्वस्थ रहें। उज्ज्वला योजना का आवेदन कोई भी बी0पी0एल0 परिवार की महिला कर सकती है। इसके लिए के0वाई0सी0 फार्म भर के नजदीकी एल0पी0जी0 केन्द्र में जमा करना होता है। आवदेन के लिए 2 पन्नों का फार्म होता है और उसमें जरूरी दस्तावेजों की आवश्यकता होती है, जो सभी के पास आसानी से उपलब्ध रहते हैं। इस योजना का लाभ लेने के लिए बी0पी0एल0 राशन कार्ड, एक फोटो आई0डी0, आधार कार्ड, दो पासपोर्ट साइज फोटो, ड्राइविंग लाइसेंस, मतदाता पहचान पत्र, पासपोर्ट की प्रति, राजपत्रित अधिकारी द्वारा सत्यापित स्व-घोषणा पत्र, एल0आई0सी0 पालिसी, बैंक स्टेटमेंट, बी0पी0एल0 सूची में नाम के प्रिंट आउट की आवश्यकता होती है। आवदेन करते समय महत्वपूर्ण बात यह होती है कि आवेदनकर्ता को यह बताना होता है कि वह 14.2 किलोग्राम का सिलेण्डर लेना चाहते हैं या 5 किलोग्राम का सिलेण्डर लेना चाहते हैं।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट