चकाई प्रखंड अंतर्गत राजकीय लक्ष्मणि मध्य विद्यालय कोराने में नाबालिग बच्चों से खाना बनाना ,साफ-सुथरा करवाना ,एवं कपड़ा साफ करवाने का मामला

संवाददाता मनोज कुमार की रिपोर्ट

चकाई ।। चकाई प्रखंड अंतर्गत राजकीय लक्ष्मणि मध्य विद्यालय कोराने में  स्थित उत्प्रेरक केंद्र में नाबालिग बच्चों से पढ़ाई बंद कर बच्चों से ही खाना बनाना शिक्षक एवं शिक्षिका का कपड़ा साफ करना बर्तन साफ करवाने  को लेकर वहां के आम जनता को मिली सूचना के आधार पर आक्रोष पैदा हुआ ।जोकि विद्यालय के प्रधानाध्यापक ने बच्चों से को ही मजदूरी के जैसा काम करवाता है और वहां के रसोईया अपने से खाना नहीं बनाता है बल्कि बच्चों से बनवाया जाता है यह कानूनन अपराध है। इसमें से शिक्षक एवं शिक्षिका ने बच्चों का भविष्य बर्बाद कर रहा है। और  संवादाता को  केंद्र प्रभारी राहुल प्रसाद राय  और अन्य शिक्षकों  ने  बरगलाने का प्रयास किया ।शिक्षकों ने  पल्ला झाड़ते हुए कहा कि  उक्त वीडियो  हमारे विद्यालय के छात्रों  का नहीं है  लेकिन वीडियो में  साफ-सुथरा से दिखाई दे रहा है कि  छात्र को सामने  लाने पर   जांच पड़ताल कर कार्रवाई करने की बात  करने लगे वीडियो  मैं  आदिवासी  समाज के नाबालिग छात्र  संजय मुर्मू का कपड़ा साफ करते  दिख रहा है।  जबकि दूसरी  वीडियो भोला हेंब्रम,संजय टुडू ,नरेश मुर्मू ,सुनील कुमार यादव एवं अन्य नाबालिग छात्र रसोई मैं खाना बनाने में सहयोग करने में लगा है इस बाबत पर पूछे जाने पर विद्यालय में प्रतिनियुक्त रसोईया द्वारा साफ-साफ कहा कि विद्यालय प्रभारी एवं केंद्र प्रभारी द्वारा बच्चों से खाना बनाने में  सहयोग लेने का आदेश मिला है बताते चलें कि उक्त आवासीय विद्यालय में बच्चे की गरीबी बच्चों की पढ़ाई करने को लेकर प्रेरित किया जाना है ।लेकिन शिक्षकों के द्वारा बच्चों से इस तरह का काम करवाया जा रहा है जानकारी के अनुसार वर्तमान में उक्त प्रेरक केंद्र में 50 से अधिक बच्चे आवासीय विद्यालय में रहकर  अध्ययनरत्न है।

ग्रामीणों में काफी आक्रोश का प्रभाव है

आवासीय उत्प्रेरक केंद्र को कोराने में  अध्ययन रत्न छात्र के द्वारा कार्य करने  से संबंधित को लेकर विडियो वायरल होने के बाद सरकार के द्वारा  11 से 14  वर्ष के अनामांकित बच्चों को शिक्षा की ओर प्रेरित को लेकर उत्प्रेरक की स्थापना किया गया है। जिसमें छात्रों के रहने खाने और पढ़ने की निशुल्क व्यवस्था किया गया है ।इसे लेकर एक निगरानी समिति का भी गठन किया गया है जबकि योग शिक्षकों के माध्यम से बच्चों की पढ़ाई करने हेतु हर तरह की सरकारी सुविधा दी जाती है।



 ग्रामीणों सहित छात्रों के अभिभावकों में काफी आक्रोश व्याप्त है जोकि अभिभावक विनोद पंडित, दीपक पंडित, किशुन शर्मा ,फुलेश्वर यादव ,पंकज कुमार पंडित ,विजय पंडित ,फाल्गुनी प्रसाद यादव, अमित कुमार ,संजय कुमार यादव ,उपेंद्र शर्मा, सुनील कुमार यादव ,राजेंद्र राय, त्रिपुरारी पांडे ,चंद्रशेखर सिंह, मोहन पंडित ,संत कुमार यादव ,अरुण कुमार यादव ,मोहम्मद मकसूद, राजेश कुमार ,विजय कुमार, ओकार कुमार, राजकुमार ,विनोद पंडित ,सीताराम पंडित सहित अन्य लोगों ने जिला अधिकारी धर्मेंद्र कुमार को हस्ताक्षर युक्त आवेदन देकर इस घटना के  जाँच संबंधित कार्रवाई शीघ्र ही  की मांग की है।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट