सोक पिट गड्ढे बनाकर वर्षा जल संचयन प्रणाली जल संचयन के लिए अधिक कारगर - जिलाधिकारी

ज्ञानपुर,भदोही ।। जिलाधिकारी राजेन्द्र प्रसाद की अध्यक्षता में ‘‘जल बचायें, जीवन बचायें’ के उद्देश्य से कलेक्ट्रेट सभागार में भू-जल सेना का गठन एवं भूजल सप्ताह आयोजन सम्बन्धी संगोष्ठी का आयोजन किया गया है। जिलाधिकारी ने वंहा पर उपस्थित किसान भाईयों से कहा कि वर्षा जल संचयन प्रणाली एक अत्यंत सरल तकनीक है, जिसे अपनाने से हमारी दैनिक जीवन की पानी की कमी को आसानी से पूरा किया जा सकता है। इस प्रणाली का प्रयोग घरेलू तथा व्यावसायिक दोनों ही प्रकार के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए किया जा सकता है, वर्षा जल के संचयन की यह पद्धति अत्यधिक कारगर तथा किफायती साबित होती है। जिलाधिकारी ने बताया कि ये कार्यक्रम 16 जुलाई से लेकर 22 जुलाई 2019 तक भूजल सप्ताह की अवधि में भूजल की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए जन जागरूकता के उद्देश्य से जनपद में कराये जाने वाले कार्यक्रमों का दायित्व सम्बन्धित अधिकारियों को दिशा निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने जिला विद्यालय निरीक्षक/जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिया कि प्रत्येक दिवस स्कूलों/कालेजों में छात्र/छात्राओं के प्रार्थना के समय जल के दुरूपयोग तथा उसकी महत्ता पर वक्तव्य दिये जाये, ताकि उनके घर/परिवार में जन जागरूकता विकसित हो, साथ ही विद्यालय वार स्लोगन, निबन्ध, परिचर्चा और संवाद, चित्रकला तथा राईटिंग प्रतियोगिता आयोजित कराया जाये तथा दिनांक 22 जुलाई 2019 को कार्यक्रम का समापन जी0आई0सी0 के प्रागण में सम्पन्न करायेगे। जिलाधिकारी राजेन्द्र प्रसाद ने समस्त खण्ड विकास अधिकारियों को निर्देश दिया कि निर्धारित तिथियों में अपने-अपने विकास खण्डो में जन जागरूकता गोष्ठी, पोस्टर्स, बैनर्स का प्रदर्शन करायेगे तथा दिनांक 20 जुलाई 2019 को साईकिल/मोटर साईकिल रैली का आयोजन सम्पन्न कराते हुए फोटोग्राफ्स उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें, तथा जिलाधिकारी ने लघु सिचाई विभाग के खुशबहार को निर्देशित किया कि विकास खण्डो में निर्धारित तिथियों में रहकर कार्यक्रम सम्पन्न कराये। जिलाधिकारी राजेन्द्र प्रसाद ने कहा कि अगर इसका ठीक से प्रयोग किया जाये, तो यह उस क्षेत्र के भूमिगत जल के स्तर को बढ़ाने में काफी मददगार साबित हो सकती है। जनपद में भूजल स्तर को बढ़ाने के उद्देश्य से सरकार के महत्वपूर्ण कार्यक्रम प्रधानमंत्री जल शक्ति अभियान को बहुत ही दृढ़ता के साथ संचालित किया जा रहा है। जिसमें पानी के दुरुपयोग को रोकने, सोक पिट गड्ढे बनाकर भूजल को बढ़ाने तथा अन्य प्रकार की जानकारी के लिए भूजल स्तर बढ़ाने हेतु जागरूक किया गया। प्रदेश सरकार की मंशा के अनुरूप भूजल स्तर को बढ़ाया जा सके और आने वाली पीढ़ी को मानकों के अनुसार जल प्राप्त हो सके। बैठक का संचालन अवर अभियन्ता लघु सिंचाई छोटेलाल ने किया।

इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी विवेक त्रिपाठी, निदेशक कृषि अरबिन्द कुमार सिंह, जिला विद्यालय निरीक्षक अशोक चौरसिया, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अमित कुमार सिंह, वरिष्ठ सहायक गया प्रसाद उपाध्याय, सिचाई विभाग के लघु सिंचाई, एवं सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे। 

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट