उ.प्र.पुलिस एन.सी.सी. के तर्ज पर स्टूडेंट पुलिस एसपीसी तैयार करेगी - जिलाधिकारी

पुलिस की नौकरी के लिए एसपीसी प्रमाण छूट दिलायागा

परिषदीय स्कूलों में योजना की तैयारी आरंभ

ज्ञानपुर,भदोही ।। आज काशी नरेश राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय ज्ञानपुर भदोही में स्टूडेंट पुलिस कैडेट कार्यक्रम में जिलाधिकारी राजेन्द्र प्रसाद ने बताया कि सरकारी स्कूलों में उत्तर प्रदेश पुलिस एक नई पहल करने जा रही है। इसके तहत इन स्कूलों में अब एनसीसी की तर्ज पर स्टूडेंट पुलिस कैडेट (एसपीसी) तैयार होंगे। इससे जहां भविष्य में बेहतर पुलिसिंग की तस्वीर बनाने की कोशिश है, वहीं बच्चों में अच्छे, सच्चे और ईमानदार नागरिक की नींव तैयार होगी। पुलिस की नौकरी के लिए भी एसपीसी का प्रमाणपत्र छूट दिलाएगा। भदोही में स्कूलों में इस योजना की तैयारी शुरू हो चुकी है। जिलाधिकारी राजेन्द्र प्रसाद ने सभी छात्र/छात्राओं को अवगत कराया कि हेलमेट का प्रयोग अवश्य करे। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक राजेश एस. ने जिले में नोडल अफसर तय करने के साथ थाना को जल्द क्रियान्वयन के निर्देश दिए हैं। स्कूलों में एसपीसी की ट्रेनिंग में बुनियादी कानून और पुलिस की कार्यप्रणाली से रूबरू कराया जाएगा। आदर्श मूल्यों और नैतिकता की शिक्षा देकर पुलिस और स्कूली छात्रों के बीच मजबूत रिश्ता बनाया जाएगा। आठवीं और नौवीं के छात्र होंगे शामिल, एसपीसी में आठवीं और नौवीं के बच्चे शामिल किए जाएंगे। नौवीं कक्षा पास करने के बाद एसपीसी के कैंप लगवाए जाएंगे। कैडेट को प्रशिक्षण मूल्यांकन के बाद प्रमाणपत्र दिया जाएगा। इन्हें स्थानीय मुद्दों के तहत कार्य करना होगा। महिला पुलिस स्टेशन, बाल सुरक्षा गृह, यातायात पुलिस, दमकल स्टेशन, थाना पुलिस और पुलिस लाइन ले जाकर कार्यशैली बताई जाएगी। एसपीसी योजना में कोई पाठ्यपुस्तक या किसी परीक्षा का प्रावधान नहीं है। महीने में एक क्लास का प्रस्ताव है। अपराध की रोकथाम के तहत सामुदायिक पुलिस, सड़क सुरक्षा, सामाजिक बुराइयों से जंग, महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा, आपदा प्रबंधन, यातायात व्यवस्था पर शिक्षा दी जाएगी। सदाचार और नैतिकता के लिए सहनशीलता, टीम भावना, बुजुर्गों का आदर, असहाय के प्रति सहानुभूति और अनुशासन भी शामिल है। छात्र-छात्राओं को सुरक्षा और शांति के प्रति जागरूक करने के साथ उनमें आत्मबल पैदा हो, इसके लिए ट्रेनिंग दी जाएगी। इस अवसर पर पुलिस क्षेत्राधिकारी कालू सिंह ने कहा कि अगर रास्ते में टू व्हीलर से चले तो हेलमेट का प्रयोग अवश्य करे, एवं फोर व्हीलर चलाते समय विशेष रूप से सीट बेल्ट का प्रयोग अवश्य करे। उन्होने बच्चों को बताया कि भारत सरकार के सौजन्य से प्रारम्भ किया गया है स्टूडेंट पुलिस कैडेट से अच्छे कार्य करने के लिए छात्र/छात्राओं को भी शामिल कर नियमों का प्रयोग करने के लिए सभी ओर नैतिकता, सहनशीलता, बुजुर्गो का आदर, एवं नियम, कानूनो का पालन करने के लिए विचार दिये। उन्होने छात्र/छात्राओं से कहा कि ड्रग्स जैसी बिशैली जहर का प्रयोग न करने के लिए बच्चो को बताया कि इसका सेवन करने से आपके स्वास्थ्य ही नही बल्कि आपके पुरे परिवार को विशेष परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है। इस लिए विशैली पदार्थो का प्रयोग न करे, एवं दुसरों को भी बताया कि इसका सेवन न करे। उन्होने बताया कि टू व्हीलर के नम्बर प्लेट पर शिक्षा विभाग, पुलिस विभाग, स्वास्थ्य विभाग, प्रेस, जय माता दी, ऐसे पट्टी पर लिखवाना कानूनन जुर्म है। इसलिए नम्बर प्लेट पर काले रंग से नम्बर लिखवाये। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक राजेश एस, पुलिस क्षेत्राधिकारी कालू सिंह, के0एन0पी0जी0 प्राचार्य डॉ0पी0एन0डोंगरे, एन0सी0सी0कैडेट, एन0एन0एस0, एवं सम्बन्धित अध्यापक एवं सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट