बछवाडा़ के दियारा में महज़ कालापानी की सजा भुगत रहे बाढ़ पिडी़तों का सहारा बने विनय सिंह



संवाददाता राकेश कु०यादव

बछवाडा़ (बेगूसराय) ।। युं तो अंग्रेजों के शासन काल में काला पानी की सजा होती थी , मगर बछवाडा़ के दियारा इलाके के लोग सुशासन की सरकार एवं प्राकृतिक आपदा बाढ़ की विभिषिका के बीच काला पानी की हीं सजा भुगत रहे हैं । पिडी़तों के लिए लंगर एवं राहत कार्य किए तो जा रहे हैं ,मगर सिर्फ़ वैसे जगहों पर जहां दियारा से लोग भागकर सुरक्षित स्थानों पर शरण लिए हुए हैं । बाक़ी के लोग जो दियारा में फंसे रह गये उनकी सुधी लेने वाला कोई नहीं ,लिहाज़ा वे तो कालापानी की सजा हीं भुगत रहे हैं । टापू तब्दील दियारा के पांच पंचायतों में नाव के सहारे जाकर लोजपा के प्रदेश नेता विनय कुमार सिंह नें बाढ़ पिडी़तों के मदद को हाथ बढाया है। बताते चलें कि पिछले तीन-चार दिनों से दियारा के जलमग्न विभिन्न गावों में महज़ नाव के सहारे जाकर रेडिमेड भोजन एवं चुरा ,गुड़ ,शक्कर ,बिस्किट आदि का वितरण कर रहे हैं । दियारा में फंसे लोगों नें उक्त लोजपा नेता को डुबते को तिनके का सहारा करार दिया है। इस क्रम में विनय कुमार सिंह नें सरकारी व्यवस्था के प्रति काफी नाराजगी जाहिर की है।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट