प्रधानमंत्री आवास योजना में धन वसूली के आरोप में 24 कर्मचारी किये जा चुके है बरखास्त

  जौनपुर। प्रधानमंत्री आवास योजना भ्रष्टाचार की भेट चढ़ गयी है। विभागीय अधिकारियों, कर्मचारियों की मिली भगत से कुछ सभासद पात्रों से जमकर धन उगाही कर रहे है। जिसका प्रमाण है कि अब तक तीन सभासदो समेत आधा दर्जन लोगो के खिलाफ डूडा अधिकारी ने मुकदमा दर्ज कराया है तथा एक जूनियर इंजीनियर समेत 24 कर्मचारियों को बरखास्त कर चुके है। जेई महोदय आज भी जेल की सलाखों के पीछे रोटियों तोड़ रहे है। गरीबों को पक्का मकान मुहैया कराने के लिए केन्द्र और प्रदेश सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना चला रखी है। सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना कुछ विभागीय अधिकारियों, कर्मचारियों सभासदो और दलालों के लिए चारागाह बन गयी है। इस योजना का लाभ दिलाने के लिए पात्रों से जमकर वसूली कर रहे है। हलांकि समय समय शिकायत मिलने पर डीएम और डूडा अधिकारी कड़ी कार्रवाई करते रहते है। अब तीन सभासद समेत आधा दर्जन लोगो के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया गया है। डूडा विभाग के अवर अभियंता भरत लाल यादव को एण्टी करेप्शन टीम ने लाभार्थी से पैसा लेते रंगे हाथ गिरफ्तार करके जेल भेजा था। इसी आरोप में 24 कर्मचारी बरखास्त किये गये है। इस संबंध में डूडा अधिकारी अनिल कुमार वर्मा ने बताया कि इस वित्तीय वर्ष में पहली कार्यवाही हुई है हरदी पुर गांव में सभासद व उसके भाई द्वारा प्रधानमंत्री आवास के नाम पर पैसा लिया जाता था जिस को संज्ञान में लेते हुए उसके खिलाफ एफ आई आर दर्ज कराया गया है इसके पहले बदलापुर में भी एक कार्रवाई हो चुकी है अब तक इस मामले में कुल 24 कर्मचारियों को भी टर्मिनेट किया जा चुका है

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट