जौनपुर - प्यारेपुर से कलीचाबाद को जोड़ने हेतु गोमती नदी पर बनेगा पुल

29.93 करोड़ की लागत से बनेगा पुल

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनसभा में की थी घोषणा


जौनपुर समाचार।

जौनपुर जिले में अभी हाल में हुए विधानसभा उपचुनाव के दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ ने जनसभा को संबोधित करते हुए गोमती नदी पर प्यारेपुर से कलीचाबाद को जोड़ने वाले पुल के निर्माण की घोषणा की थी। अब अलीगंज से सटे कलीचाबाद से प्यारेपुर तक शहर की भीड़ से बचकर जाने हेतु गोमती नदी पर पुल का निर्माण किया जाएगा जिसके लिए 29.93 करोड़ रुपये के बजट की मंजूरी शासन से हो गई है। जल्द ही निर्माण कार्य की प्रक्रिया भी शुरू हो जाएगी।

वास्तव में शहर में जाम की समस्या को देखते हुए जनता व जनसेवकों द्वारा इस पुल की वर्षों से मांग की जा रही थी। भाजपा विधायक व आवास एवं शहरी नियोजन राज्यमंत्री गिरीश चंद यादव जी भी इस पुल का निर्माण कराए जाने हेतु प्रयासरत थे अंततः सभी का प्रयास रंग लाया और जौनपुर की संकरी गलियों वाले मार्ग से खुटहन, पट्टीनरेंद्रपुर, समोधपुर आदि स्थानों से शहर में घुसकर वाराणसी की तरफ जाने वाले लोगों को जाम से निजात मिलने का रास्ता साफ तो हुआ ही है साथ ही साथ मल्हनी मार्ग की तरफ जौनपुर शहर  के विकास की संभावना की भी उम्मीद जगी है। 

इसके कार्य के लिए माननीय राज्यमंत्री जी ने  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या से मिलकर इस पुल की मांग की थी। जिसे संज्ञान में लेते हुए सीएम ने मल्हनी उपचुनाव के दौरान एक जनसभा में अलीगंज से सटे कलीचाबाद से प्यारेपुर तक सुविधाजनक आवागमन हेतु  गोमती नदी पर पुल के निर्माण की घोषणा की थी।

माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने इस पुल का नामकरण पूर्व सांसद स्व. राजा यादवेंद्र दत्त दुबे के नाम से करने की घोषणा की थी किन्तु कोरोना महामारी के कारण प्रक्रिया में थोड़ी समस्या जरूर  हुई किन्तु अब पुल निर्माण के लिए वित्तीय स्वीकृति मिल गई है।

राज्यमंत्री गिरीशचन्द्र यादव जी  के मीडिया प्रभारी मनीष श्रीवास्तव ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने इस सेतु निर्माण के लिए 29 करोड़ 93 लाख 31 हजार की स्वीकृति प्रदान कर दी है और  यथाशीघ्र पुल के निर्माण की प्रक्रिया प्रारंभ हो जाएगी।इस पुल के बनने से शहर में भीड़ का दबाव कम हो जाएगा । इसके बन जाने से बदलापुर, मछलीशहर, मड़ियाहूं की तरफ से पूर्वांचल विश्वविद्यालय, राजकीय मेडिकल कॉलेज या शाहगंज की तरफ जाने वाले लोग शहर के बाहर से ही कुद्दूपुर के रास्ते निकल जाएँगे जिससे जाम की समस्या भी कम हो जाएगी और लोगों का समय भी बचेगा। 

ध्यान देने योग्य बात है कि चालू वित्तीय वर्ष में गोमती नदी पर दो सेतु निर्माण की वित्तीय स्वीकृति मिली है जिसमें एक शास्त्री पुल के समानांतर पुल और दूसरा प्यारेपुर से कलीचाबाद पुल का निर्माण शामिल है। 

वैसे अगर शासन से खुटहन से समोधपुर तक के खराब सिंगल रोड का चौड़ीकरण हो जाता है तो जनपद के सुदूरवर्ती गाँव के लोग मेडिकल आदि सुविधाओं का लाभ आसानी से प्राप्त कर सकते हैं, क्योकि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर आवश्यक जांचों व दवाओं की उपलब्धता नहीं है ।

इन दोनों सेतु के निर्माण से शहर में जाम की समस्या से निजात मिलेगी। यह जनपद के लिए बहुत बड़ी सौगात है। राज्यमंत्री गिरीश चंद्र यादव ने बताया कि पुल के बन जाने से जौनपुर की  जनता को जाम से निजात मिलेगा। जनपद में हो रही बहुआयामी विकास कार्यों में एक और कड़ी जुड़ गई है।

रिपोर्टर

संबंधित पोस्ट